Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

सुबह-ए-क्यारी

पेड़ों के झुरमुट से झांकती, पत्तों को छानती सुबह की वो पहली किरण। मुर्गों को भी शायद यही किरणें बांग देने को कहती होंगीं। ओस की बूंदें पालक के पत्तों…

कुमाऊनी लोक कला – ऐपण

उत्तराखंडी लोक कला के विविध आयाम हैं. यहाँ की लोक कला को ऐपण कहा जाता है. यह अल्पना का ही प्रतिरूप है. संपूर्ण भारत के विभिन्न क्षेत्रों में लोक कला…