Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

कुमाऊनी लोक कला – ऐपण

उत्तराखंडी लोक कला के विविध आयाम हैं. यहाँ की लोक कला को ऐपण कहा जाता है. यह अल्पना का ही प्रतिरूप है. संपूर्ण भारत के विभिन्न क्षेत्रों में लोक कला को अलग-अलग नामों जैसे बंगाल में अल्पना, उत्तर प्रदेश में चौक पूरना, गुजरात में रंगोली, मद्रास में कोलाम, राजस्थान में म्हाराना और बिहार में मधुबनी से जाना जाता है. धार्मिक अनुष्ठानों एवं संस्कारों से संबंधित क्षेत्रीय लोक कलाओं का महत्त्व सदियों से चलता चला आया है. विवाहोत्सवों पर निर्मित कलाओं में बारीकियों का विशेष महत्त्व होता है. ऐपण भावनाओं का दर्पण होत्ते हैं. उत्तराखण्ड में ऐपण कला में कालांतर से चली आ रही मान्यताओं की अभिव्यक्ति परिलक्षित होती है. अतः इनमें तांत्रिक, मान्त्रिक एवं यांत्रिक आस्थाओं के संकेत मिलते हैं.

Click Here For Information About Melange

Leave a Comment